Why is Russia Attacking Ukraine in Hindi | क्यों रूस कर रहा है यूक्रेन पर हमला

Please Share:
5/5 - (1 vote)

A simple understanding of why Russia attacked Ukraine? Why is Russia Attacking Ukraine in Hindi?

Vladimir Putin, President of Russia

Why is Russia attacking Ukraine?

रूस एक बहुत ही बड़ा देश है। यह अकल्पनीय रूप से विशाल है। यह 11 टाइमज़ोन लंबा है और इसका 36000 किमी लंबा समुद्री तट और 17 मिलियन वर्ग किमी क्षेत्र है।

फिर, यह अभी भी यूक्रेन का समर्थन खोने से क्यों डरता है और उसके भूभाग को इतनी बुरी तरह से चाहता है?

इसका एक साधारण सा उत्तर है ‘भूगोल’
Coast line of Russia

भले ही रूस का तट बहुत ही लंबा है, लेकिन यह उत्तरी गोलार्ध में है और इसकी पूरी लंबाई बहुत अधिक है जिसकी वजह से पानी पूरे साल गर्म नहीं होता है। कई जगह तो पानी इतनी बुरी तरह से जम जाता है की जहाज़ चल नहीं सकते। तट लगभग आधे साल के लिए जम जाता है और इसका मतलब है कि उनके पास वहां अच्छे बंदरगाह नहीं हो सकते हैं और व्यापार और वाणिज्य प्रभावित होता है।

और व्यापार के लिए, आपको एक गर्म पानी के बंदरगाह की आवश्यकता होती है। जहां साल भर व्यापार हो सकता है और जो आपको दक्षिणी देशो से जोड़ सके।

यहाँ उत्तर आता है – यूक्रेन।

Why Russia Wants Ukraine?

यूक्रेन का काला सागर (Black Sea) के साथ एक तट है और यह भूमध्य सागर से जुड़ता है जो पूरी दुनिया के लिए रास्ता खोलता है।

रूस इसे बहुत चाहता है।

सोवियत यूनियन (USSR) यूएसएसआर के पतन के बाद, रूसियों के साथ ‘स्टैन्स’ (Stans) – उज़्बेक, कज़ाख आदि गिर गए। लेकिन यूरोप के करीब के देश – रोमानिया, लिथुआनिया आदि पश्चिम और नाटो (NATO) के साथ चले गए।

और यूक्रेन बीच में फंस गया। यूक्रेन के पूर्वी भाग ने यूरोपीय संघ के साथ रूस और पश्चिम का समर्थन किया

और यूक्रेन के पास क्रीमिया के क्षेत्र में एक गर्म पानी का बंदरगाह सेवस्तापोल (Sevastopol) था (छोटा हिस्सा जो दक्षिण में बाहर निकलता है)।

इस गर्म पानी के बंदरगाह का उपयोग करने और व्यापार के लिए अपने जहाजों को चलाने के लिए रूस के पास एक करार था।

लेकिन अगर यूक्रेन यूरोपीय संघ (EU) या नाटो (NATO) में चला गया, तो इस बंदरगाह को खोने का जोखिम था।

The Root Cause of the Ukraine Conflict

रूस को अभी भी भूमध्यसागर तक पहुँचने के लिए नाटो के सदस्य तुर्की (Turkey) द्वारा नियंत्रित बोस्फोरस (Bosphorus) चैनल को पार करना था। तुर्की अच्छे विश्वास में रूसी व्यापारी जहाजों को अनुमति देता है लेकिन रूस पर दबाव बनाने के लिए कभी भी रोक भी सकता है।

तो, रूस द्वारा यूक्रेन को पश्चिमी देशो में नहीं जाने देने का भी यह एक बड़ा कारण है।

यूक्रेन ने हमेशा अपने हितों को यूरोपीय संघ (EU) और रूस के साथ जोड़ा है। 2013 में, जब ऐसा लगा कि वे यूरोपीय संघ की सदस्यता के लिए जा रहे हैं, तो राष्ट्रपति पुतिन को एक कार्रवाई करनी पड़ी और रूस ने क्रीमिया पर कब्जा कर लिया और अपने लिए बंदरगाह ले लिया।

इसके बाद यूक्रेन ने यूरोपीय संघ की योजना को तो छोड़ दिया लेकिन वह पहले ही क्रीमिया खो चुका था।

क्रीमिया पर कब्जा करने के बाद राष्ट्रपति पुतिन ने वास्तव में एक साक्षात्कार दिया था और कहा था:

‘यदि आप स्प्रिंग को उसकी सीमा तक पूरी तरह से संकुचित करते हैं, तो एक समय बाद वो एक करारे झटके से वापस आ जाएगा। आपको यह हमेशा याद रखना चाहिए’
(‘If you compress the spring all the way to it’s limit, it will snap back hard. You must always remember this’)

अब 2021 तक तेजी से आगे बढ़ें और देखे तो यूक्रेन खुद को नाटो (NATO) सदस्यता की कल्पना कर रहा था। यदि दिया जाता है, तो अमेरिका, यूक्रेन, रोमानिया और तुर्की का उपयोग करके रूस को अपने व्यापार से काटने की योजना बना सकता था।

क्रिया: स्प्रिंग को बहुत ही ज्यादा दबाब देकर संकुचित करना।
प्रतिक्रिया: एक करारे झटके के साथ वापिस आता है।

Why did Russia invade Ukraine?

पुतिन ने यूक्रेन के कुछ इलाको में नरसंहार का सामना करने वाले रूसियों की कहानी बनाई और उन्हें बचाने के लिए यूक्रेन पर आक्रमण किया है।

यूरोपीय संघ या नाटो मदद के लिए आएंगे या नहीं, इसका किसी को कोई अनुमान नहीं है। लेकिन स्प्रिंग अपनी पूरी प्रतिक्रिया देगा इसकी पूरी सम्भावना है।

Disclaimer: This article is Hindi Translation of a Twitter Thread by @myhistorytales so, Hindi audience can also understand this conflict in simple language. If you want you can read the original thread here: Click Here

Also Read: 06 दैनिक आदतें जो बना सकती है आपके दिमाग को सीखने की मशीन | 06 Daily Habits to Improve Life

Please Share:

Leave a Reply