Aarti Kunj Bihari Ki | भगवान कृष्ण की प्रसिद्ध आरती | Krishna Ji Ki Aarti | Krishna Janmashtmi 2021

Please Share:
Rate this post

Hindi Kala presents Aarti Kunj Bihari Ki | भगवान कृष्ण की प्रसिद्ध आरती | Bhagwan Krishna Ji Ki Aarti. Lord Krishna Worship Song in Hindi.

Lord Krishna

आरती कुंज बिहारी की भगवान कृष्ण की सबसे प्रसिद्ध आरती में से एक है। यह कृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtmi) या श्रीकृष्ण जयंती दिवस सहित भगवान कृष्ण से संबंधित अधिकांश शुभ अवसरों पर बहुत धूमधाम से पढ़ा जाता है। यह इतना लोकप्रिय है कि इसे घरों और विभिन्न कृष्ण मंदिरों में नियमित रूप से पढ़ा जाता है।

बिहारी, भगवान कृष्ण के हजार नामों में से एक है और कुंज वृंदावन के हरे भरे पेड़ों को संदर्भित करता है। कुंज बिहारी का अर्थ है, जो वृंदावन की हरियाली में विचरण करता है, परम भगवान कृष्ण। 🙏

Also Read: Ganesh Ji Ki Aarti | भगवान गणेश जी की आरती

Aarti Kunj Bihari Ki | आरती कुंजबिहारी की

आरती कुंजबिहारी की, 
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ||
आरती कुंजबिहारी की, 
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ||

गले में बैजंती माला, 
बजावै मुरली मधुर बाला।
श्रवण में कुण्डल झलकाला, 
नंद के आनंद नंदलाला।
गगन सम अंग कांति काली, 
राधिका चमक रही आली।
लतन में ठाढ़े बनमाली;
भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, 
चंद्र सी झलक;
ललित छवि श्यामा प्यारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

कनकमय मोर मुकुट बिलसै, 
देवता दरसन को तरसैं।
गगन सों सुमन रासि बरसै;
बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग;
अतुल रति गोप कुमारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

जहां ते प्रकट भई गंगा, 
कलुष कलि हारिणि श्रीगंगा।
स्मरन ते होत मोह भंगा;
बसी सिव सीस, 
जटा के बीच, 
हरै अघ कीच;
चरन छवि श्रीबनवारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

चमकती उज्ज्वल तट रेनू, 
बज रही वृंदावन बेनू।
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू;
हंसत मृदु मंद,
चांदनी चंद, 
कटत भव फंद;
टेर सुन दीन दुखारी की॥
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥ x2

आरती कुंजबिहारी की, 
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥
आरती कुंजबिहारी की, 
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

Lord Krishna Aarti in English

Aaarti Kunjbihari Ki,
Shree Giridhar Krishna Murari Ki ||
Aarti Kunjbihari Ki,
Shree Giridhar Krishna Murari Ki ||

Gale Mein Baijantee Maala,
Bajaavai Muralee Madhur Baala.
Shravan Mein Kundal Jhalakaala,
Nand Ke Aanand Nandalaala.
Gagan Sam Ang Kaanti Kaalee,
Raadhika Chamak Rahee Aalee.
Latan Mein Thaadhe Banamaalee;
Bhramar See Alak, Kastooree Tilak,
Chandr See Jhalak;
Lalit Chhavi Shyaama Pyaaree Ki.
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki.
Aarti Kunjbihariki
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki. X2

Kanakamay Mor Mukut Bilasai,
Devata Darasan Ko Tarasain.
Gagan Son Suman Raasi Barasai;
Baje Murachang, Madhur Miradang, Gvaalin Sang;
Atul Rati Gop Kumaaree Ki.
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki.
Aarti Kunjbihariki
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki. X2

Jahaan Te Prakat Bhee Ganga,
Kalush Kali Haarini Shreeganga.
Smaran Te Hot Moh Bhanga;
Basee Siv Sees,
Jata Ke Beech,
Harai Agh Kich;
Charan Chhavi Shreebanavaaree Ki.
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki.
Aarti Kunjbihariki
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki. X2

Chamakatee Ujjval Tat Renoo,
Baj Rahee Vrndaavan Benoo.
Chahun Disi Gopi Gvaal Dhenoo;
Hansat Mrdu Mand,
Chaandanee Chand,
Katat Bhav Phand;
Ter Sun Deen Dukhaaree Ki.
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki.
Aarti Kunjbihariki
Shree Giridhar Krishnaamurari Ki. X2

Aarti Kunjbihariki,
Shree Giridhar Krishna Murari Ki.
Aarti Kunjbihariki,
Shree Giridhar Krishna Murari Ki

Also Read: Shree Hanuman Chalisa in Hindi | श्री हनुमान चालीसा हिन्दी में



Tags:

Please Share:

Leave a Reply