Gulzar – Badi Takleef Hoti Hai | गुलज़ार – बड़ी तकलीफ़ होती है | Ghazal

Please Share:

गुलज़ार की ग़ज़ल ‘बड़ी तकलीफ़ होती है’ हिंदी लिपि में 

मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू
सुना है आबशारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को
चरागों से मज़ारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

कहू क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे है
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

तुम्हारा क्या तुम्हें तो राह दे देते हैं काँटे भी
मगर हम खांकसारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

Gulzar’s Ghazal ‘Badi Takleef Hoti Hai’ in Roman Transcript

Machal Ke Jab Bhi Aankhon Se Chhalak Jate Hai Do Aansoo
Suna Hai Aabsharon Ko Badi Takleef Hoti Hai

Khudara Ab To Bujh Jane Do Iss Jalti Huyi Lau Ko
Charago Se Mazaron Ko Badi Takleef Hoti Hai

Kahoon Kya Woh Badi Masoomiyat Se Pooch Baithe Hai
Kya Sachmuch Dil Ke Maaro Ko Badi Takleef Hoti Hai

Tumhara Kya Tumhe To Raah De Dete Hai Kaante Bhi
Magar Hum Khaaksaro Ko Badi Takleef Hoti hai

Please Share:

Leave a Reply