Ahmad Faraz – Ranjish Hi Sahi Dil Dukhane Ke Liye Aa | अहमद फ़राज़ – रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ | Ghazal

Please Share:

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिये आ

अब तक दिल-ए-खुशफ़हम को हैं तुझ से उम्मीदें
ये आखिरी शम्में भी बुझाने के लिये आ

इक उम्र से हूँ लज्ज़त-ए-गिरया से भी महरूम
ऐ राहत-ए-जां मुझको रुलाने के लिये आ

कुछ तो मेरे पिन्दार-ए-मोहब्बत का भरम रख
तू भी तो कभी मुझ को मनाने के लिये आ

माना के मोहब्बत का छुपाना है मोहब्बत
चुपके से किसी रोज़ जताने के लिए आ

जैसे तुम्हें आते हैं ना आने के बहाने
ऐसे ही किसी रोज़ न जाने के लिए आ

पहले से मरासिम ना सही फिर भी कभी तो
रस्म-ओ-रहे दुनिया ही निभाने के लिये आ

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम
तू मुझ से खफा है तो ज़माने के लिये आ

Ahmad Faraz | अहमद फ़राज़

अहमद फ़राज़

Ranjish Hi Sahi Dil Dukhane Ke Liye Aa
Aa Phir Se Mujhe Chhod Ke Jane Ke Liye

Ab Tak Dil-E-Khasfaham Ko Hai Tujhse Ummeedein
Yeh Aakhiri Shamme Bhi Bujhane Ke Liye Aa

Ek Umar Se Hoon Lazzat-E-Girya Se Bhi Mehroom
Yeh Rahat-E-Jaan Mujhko Rulane Ke Liye Aa

Kuch To Mere Pindar-E-Mohabbat Ka Bharam Rakh
Tu Bhi To Kabhi Mujhko Manane Ke Liye Aa

Maana Ke Mohabbat Ko Chupana Hai Mohabbat
Chupke Se Kisi Roz Jatane Ke Liye Aa

Jaise Tumhe Aate Hai Naa Aane Ke Bahane
Aise Kisi Roz Na Jane Ke Liye Aa

Pehle Se Marasim Na Sahi Phir Bhi Kabhi To
Rasm-O-Rahe Duniya Hi Nibhane Ke Liye Aa

Kis Kis Ko Batayege Judai Ka Sabab Hum
Tu Mujh Se Khafa Hai To Zamane Ke Liye Aa

– Ahmad Faraz

Please Share:

Leave a Reply