Arth (1982) – Koi Ye Kaise Bataye Ke Woh Tanha Kyon Hai | कैफी आज़मी – कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यो है | Nazm

Please Share:

कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यो है?
वो जो अपना था, वही और किसी का क्यो है?

यही दुनिया है तो फिर, ऐसी ये दुनिया क्यो है?
यही होता है तो, आखिर यही होता क्यो है?
 
इक ज़रा हाथ बढ़ा दे तो, पकड़ ले दामन
उस के सीने मे समां जाए, हमारी धड़कन
इतनी कुर्बत है तो फिर फासला इतना क्यो है? (कुर्बत = नजदीकी)

दिला-ए बरबाद से निकला नही अबतक कोइ
इक लुटे घर पे दिया करता है दस्तक कोइ
आस जो टूट गयी है फिर से बंधता क्यो है?
 
तुम मसर्रत का कहो या इसे गम का रिश्ता (मसर्रत = ख़ुशी)
कहते है प्यार का रिश्ता है जनम का रिश्ता
है जनम का जो ये रिश्ता तो बदलता क्यो है?

– कैफी आज़मी 


In ROMAN TRANSCRIPT

Koi Ye Kaise Bataye Ke Woh Tanha Kyon Hai?
Woh Jo Apna Tha Wahi Aur Kisi Ka Kyon Hai?
Yahi Duniya Hai To Phir Aisi Ye Duniya Kyon Hai?
Yahi Hota Hai To Aakhir Yahi Hota Kyon Hai?
 
Ek Zara Haath Bada De To Pakad Le Daaman
Uske Seene Mein Sama Jaaye Hamari Dhadkan
Itni Qurbat Hai To Faasla Itna Kyon Hai? (Qurbat = closeness)
Dil-E-Barbaad Se Nikla Nahin Ab Tak Koi
Ek Loote Ghar Pe Diya Karta Hai Dastak Koi
Aaas Jo Toot Gayi Phir Se Bandhata Kyon Hai?
 
Tum Masrrat Ka Kaho Ya Ise Gham Ka Rishta (Masrrat = Happiness)
Kehte Hai Pyaar Ka Rishta Hai Janam Ka Rishta
Hai Janam Ka Jo Yeh Rishta To Badalta Kyon Hai?
–  Kaifi Azmi

Koi Ye Kaise Bataye Ke Woh Tanha Kyon Hai by Jagjit Singh
Please Share:

Leave a Reply