Gulzar – Bas Ek Lamhe Ka Jhagda Tha | बस एक लम्हे का झगड़ा था | गुलज़ार | Poem

Please Share:

बस एक लम्हे का झगड़ा था
दर-ओ-दीवार पे ऐसे छनाके से गिरी आवाज़
जैसे काँच गिरता है
हर एक शय में गई
उड़ती हुई, चलती हुई, किरचें
नज़र में, बात में, लहजे में,
सोच और साँस के अन्दर
लहू होना था इक रिश्ते का
सो वो हो गया उस दिन
उसी आवाज़ के टुकड़े उठा के फर्श से उस शब
किसी ने काट ली नब्जें
न की आवाज़ तक कुछ भी
कि कोई जाग न जाए
बस एक लम्हे का झगड़ा था

गुलज़ार
poems by Gulzar Saab

Bas Ek Lamhe Ka Jhagdaa Tha
Dar-O-Deewar Pe Aise Chanake Se Giri Aawaz
Jaise Kaanch Girta Hai
Har Ek Shay Mein Gayi
Udti Huyi, Chali Huyi, Krichey
Nazar Mein, Baat Mein, Lehze Mein
Soch Aur Saans Ke Andar
Lahoo Hona Tha Ek Rishtey Ko
So Woh Ho Gaya Us Din
Usi Aawaaz Ke Tukde Utha Ke Farsh Se Us Shab
Kisi Ne Kaat Li Nabze
Na Ki Aawaaz Tak Kuch Bhi
Ki Koi Jaag Na Jaye
Bas Ek Lamhe Ka Jhagda Tha

~ Gulzar
Please Share:

Leave a Reply