Udaan – Jo Lehron Se Aage Nazar Dekh Paati | जो लहरों से आगे नज़र देख पाती

Please Share:

जो लहरों से आगे नज़र देख पाती
तो तुम जान लेते, 
मैं क्या सोचता हूँ

वो आवाज़ जो तुमको भी जो भीड़ में जाती
तो तुम जान लेते,
मैं क्या सोचता हूँ,

ज़िद का तुम्हारे जो पर्दा सरकता,
तो खिड्कियों से आगे भी तुम देख पाते
आँखों से आदतों की जो पलकें हटाते
तो तुम जान लेते मैं क्या सोचता हूँ

मेरी तरह होता खुद पर ज़रा भरोसा
तो कुछ दूर तुम भी साथ-साथ आते
रंग मेरी आँखों का बांटते ज़रा सा 
तो कुछ दूर तुम भी साथ-साथ आते

नशा आसमान का जो चूमता तुम्हें भी,
हसरतें तुम्हारी नया जन्म पाती,
खुद दूसरे जन्म में मेरी उड़ान छूने
कुछ दूर तुम भी साथ-साथ आते


Jo Lehron Se Aage Nazar Dekh Paati

Jo Lehron Se Aage Nazar Dekh Paati
To Tum Jaan Lete,
Main Kya Sochta Hoon

Woh Aawaz Jo Tumko Bhi Jo Bheed Mein Jaati
To Tum Jaan Lete,
Main Kya Sochta Hoon,

Zid Ka Tumhare Jo Parda Sarakta
To Khidkiyo Se Aage Bhi Tum Dekh Paate
Aankhon Se Aadato Ki Jo Palkein Hatate
To Tum Jaan Lete Main Kya Sochta hoon

Meri Tarah Hota Khud Par Zara Bharosa
To Kuch Door Tum Bhi Saath Saath Aate
Rang Meri Aankhon Ka Baantey Zara Sa
To Kuch Door Tum Bhi Saath Saath Aate

Nasha Aasmaan Ka Jo Choomta Tumhe Bhi,
Hasratein Tumhari Naya Janam Paati,
Khud Doosre Janam Mein Meri Udaan Chhone
Kuch Door Tum Bhi Saath Saath Aate

Please Share:

Leave a Reply