bulati-hai-magar-jaane-ka-nai
Rahat Indori Ghazal

Rahat Indori – Bulati Hai Magar Jane Ka Nai | राहत इन्दौरी – बुलाती है मगर जाने का नईं | Ghazal

Hindi Kala presents bulati hai magar jaane ka nai ghazal lyrics by Rahat Indori | राहत इन्दौरी - बुलाती है मगर जाने का नईं

Continue ReadingRahat Indori – Bulati Hai Magar Jane Ka Nai | राहत इन्दौरी – बुलाती है मगर जाने का नईं | Ghazal
Gulzar Poetry Pyaar Woh Beez Hai

Gulzar Poetry Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार – प्यार वो बीज है

Gulzar poetry Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार - प्यार कभी इकतरफ़ा होता है, न होगा दो रूहों के मिलन की जुड़वां

Continue ReadingGulzar Poetry Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार – प्यार वो बीज है