Gulzar – Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार – प्यार वो बीज है | | Poetry

Gulzar poetry Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार - प्यार कभी इकतरफ़ा होता है, न होगा दो रूहों के मिलन की जुड़वां

Continue ReadingGulzar – Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार – प्यार वो बीज है | | Poetry

Rajinder Nath (Rehbar) – Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise | तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे

Rajinder Nath (Rehbar) - Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise | तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे

Continue ReadingRajinder Nath (Rehbar) – Tere Khushboo Mein Base Khat Main Jalata Kaise | तेरे खुशबु मे बसे ख़त मैं जलाता कैसे