Poetry | कविताएँ

Gulzar – Poore Ka Poora Aakash Ghuma Kar Baazi Dekhi Maine | गुलज़ार – पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने | Poem

Hindi Kala presents Gulzar poem Poore Ka Poora Aakash Ghuma Kar Baazi Dekhi Maine इसमें जिस तरह से गुलज़ार साब और भगवान के बीच जिसे वो ‘बड़े मियां’ कहते है

Continue Reading Gulzar – Poore Ka Poora Aakash Ghuma Kar Baazi Dekhi Maine | गुलज़ार – पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने | Poem

Sahir Ludhianvi – Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी – मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Sahir Ludhianvi - Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी - मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Continue Reading Sahir Ludhianvi – Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी – मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Gulzar – Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार – प्यार वो बीज है | | Poetry

Gulzar - Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार - प्यार वो बीज है | | Poetry | प्यार कभी इकतरफ़ा होता है, न होगा दो रूहों के मिलन की जुड़वां पैदाईश है ये

Continue Reading Gulzar – Pyaar Woh Beez Hai | गुलज़ार – प्यार वो बीज है | | Poetry

Harivansh Rai Bachchan – Agneepath | हरिवंश राय बच्चन – अग्निपथ | Poetry

Harivansh Rai Bachchan - Agneepath | हरिवंश राय बच्चन - अग्निपथ | Poetry इस कविता को उनके बेटे अमिताभ बच्चन की फिल्म अग्निपथ (१९९०) में उपयोग किया गया है

Continue Reading Harivansh Rai Bachchan – Agneepath | हरिवंश राय बच्चन – अग्निपथ | Poetry

Gulzar – Bas Ek Lamhe Ka Jhagda Tha | बस एक लम्हे का झगड़ा था | गुलज़ार | Poem

Check out the very famous poem Bas Ek Lamhe Ka Jhagdaa by Gulzar Saab. बस एक लम्हे का झगड़ा थादर-ओ-दीवार पे ऐसे छनाके से गिरी आवाज़

Continue Reading Gulzar – Bas Ek Lamhe Ka Jhagda Tha | बस एक लम्हे का झगड़ा था | गुलज़ार | Poem

Kanhaiyalal Nandan – Angaarey Ko Tumne Chua | Poem | अंगारे को तुमने छुआ | कन्हैयालाल नंदन

Kanhaiyalal Nandan - Angaarey Ko Tumne Chua | Poem | अंगारे को तुमने छुआ | कन्हैयालाल नंदन Best hindi poems, best poems by hindi poet

Continue Reading Kanhaiyalal Nandan – Angaarey Ko Tumne Chua | Poem | अंगारे को तुमने छुआ | कन्हैयालाल नंदन