Firaq Gorakhpuri – Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai | फ़िराक़ गोरखपुरी – जो बात है हद से बढ़ गयी है | Ghazal

Please Share:

Hindi Kala presents Firaq Gorakhpuri Ghazal “Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai”

Firaq Gorakhpuri Ghazal Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai

जो बात है हद से बढ़ गयी है
वाएज़(1) के भी कितनी चढ़ गई है

हम तो ये कहेंगे तेरी शोख़ी
दबने से कुछ और बढ़ गई है

हर शय ब-नसीमे-लम्से-नाज़ुक(2)
बर्गे-गुले-तर से बढ़ गयी है

जब-जब वो नज़र उठी मेरे सर
लाखों इल्ज़ाम मढ़ गयी है

तुझ पर जो पड़ी है इत्तफ़ाक़न
हर आँख दुरूद(3) पढ़ गयी है

सुनते हैं कि पेंचो-ख़म(4) निकल कर
उस ज़ुल्फ़ की रात बढ़ गयी है

जब-जब आया है नाम मेरा
उसकी तेवरी-सी चढ़ गयी है

अब मुफ़्त न देंगे दिल हम अपना
हर चीज़ की क़द्र बढ़ गयी है

जब मुझसे मिली ‍फ़ि‍राक वो आँख
हर बार इक बात गढ़ गयी है

फ़िराक़ गोरखपुरी

1. उपदेशक
2. कोमल हवा के स्पर्श से
3. दुआ का मन्त्र
4. टेढ़ापन

Firaq Gorakhpuri Ghazal Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai in Roman Transcript or Hinglish

Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai
Wayaz Ke Bhi Kitni Chadh Gayi Hai

Hum To Yeh Kahege Teri Shokhi
Dabne Se Kuch Aur Badh Gayi Hai

Har Shay Ba-Naseeme-Lamse-Nazuk
Barge-Gule-Tar Se Badh Gayi Hai

Jab-Jab Woh Naza Uthi Mere Sar
Lakhon Ilzaam Madh Gayi Hai

Tujh Par Jo Padi Hai Ittefaqan
Har Aankh Durud Padh Gayi Hia

Sune Hai Ki Pencho-Kham Nikal Kar
Uss Zulf Ki Raat Badh Gayi Hai

Jab-Jab Aaya Hai Naam Mera
Uski Tewari-Si Chadh Gayi Hia

Ab Muft Na Dege Dil Hum Apna
Har Cheez Ki Kadra Badh Gayi Hai

Jab Mujhse Mili Firaq Woh Aankh
Har Baar Ek Baat Gadh Gayi Hai

Firaq Gorakhpuri

Please Share:

Leave a Reply