Sahir Ludhianvi – Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी – मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Please Share:

Hindi Kala presents you Sahir Ludhianvi Poetry ‘Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe’. This is very famous poem/nazm by Sahir as it is considered that he has written this for his love Amrita Pritam.

sahir-ludhianvi--maine-jo-geet-tere-pyaar-ki-khatir-likhe
Sahir Ludhianvi Poetry

साहिर लुधियानवी – मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे

मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे
आज उन गीतों को बाज़ार में ले आया हूँ
आज दुकान पे नीलाम उठेगा उन का
तूने जिन गीतों पे रक्खी थी मुहब्बत की असास
आज चाँदी की तराज़ू में तुलेगी हर चीज़
मेरे अफ़कार मेरी शायरी मेरा एहसास
(असास=नींव, अफ़कार=लेख)
 
जो तेरी ज़ात से मनसूब थे उन गीतों को
मुफ़्लिसी जिन्स बनाने पे उतर आई है
भूक तेरे रुख़-ए-रन्गीं के फ़सानों के इवज़
चंद आशिया-ए-ज़रूरत की तमन्नाई है
[मनसूब= जुडे हुए; मुफ़्लिसी= गरीबी]
(जिन्स= वस्तु, इवज़= बदले में)
 
देख इस अर्सागह-ए-मेहनत-ओ-सर्माया में
मेरे नग़्में भी मेरे पास नहीं रह सकते
तेरे ज़लवे किसी ज़रदार की मीरास सही
तेरे ख़ाके भी मेरे पास नहीं रह सकते
(अर्सागह-ए-मेहनत-ओ-सर्माया= पैसे और मजदूरी की लडाई में
ज़रदार=अमीर, मीरास=जायदाद, ख़ाके= रूप)
 
आज उन गीतों को बाज़ार में ले आया हूँ
मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे 
– साहिर लुधियानवी

IN ROMAN TRANSCRIPT or Hinglish

Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe
Aaj Un Geeto Ko Bazaar Mein Le Aaya Hoon
Aaj Dukaan Pe Neelam Uthega Un Ka 
Tune Jin Geeto Pe Rakhi Thi Mohabbat Ki Asaas
Aaj Chandi Ki Tarazoo Mein Tulegi Har Cheez
Mere Afkaar Meri Shayri Mera Ehsaas
(Asaas = Base, Afkaar = Creations)

 
Jo Teri Jaat Se Mansoob The Un Geeto Ko
Muflisi Jins Banane Pe Utar Aayi Hai
Bhookh Tere Rookh-E-Rangi Ke Fasano Ke Evaz
Chand Aashiya-E-Jarurat Ki Tamannayi Hai
(Mansoob = Attached, Muflisi = Poority, Jins = Thing, Evaz = In Trade)

 
Dekh Ek Arsagah-E-Mehnat-O-Sarmaya Mein
Mere Nagme Bhi Mere Paas Nahi Rah Sakte
Tere Jalwe Kisi Zardaar Ki Meeras Sahi
Tere Khaake Bhi Mere Paas Nahi Rah Sakte
(Arsagah-E-Mehnat-O-Sarmaya = In War Of Money And Work,
Zardaar = Rich, Meeras = Property, Khaake = Beauty)

 
Aaj Un Geeto Ko Bazaar Mein Le Aaya Hoon
Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe

Sahir Ludhianvi

आशा है आपको रचना पसंद आई होगी, यदि इस रचना के सन्दर्भ में आपके कुछ विचार है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य बताये।  धन्यवाद !

Please Share:

Leave a Reply