Firaq Gorakhpuri – Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai | फ़िराक़ गोरखपुरी – जो बात है हद से बढ़ गयी है | Ghazal

Hindi Kala presents Firaq Gorakhpuri Ghazal Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai | फ़िराक़ गोरखपुरी - जो बात है हद से बढ़ गयी है

Continue Reading Firaq Gorakhpuri – Jo Baat Hai Hadd Se Badh Gayi Hai | फ़िराक़ गोरखपुरी – जो बात है हद से बढ़ गयी है | Ghazal

Shakeel Badayuni – Badle Badle Mere Sarkaar Nazar Aate Hai | शकील बदायूँनी – बदले बदले मेरे सरकर नज़र आते हैं | Ghazal

Hindi Kala presents Shakeel Badayuni - Badle Badle Mere Sarkaar Nazar Aate Hai Ghazal शकील बदायूँनी की बदले बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं

Continue Reading Shakeel Badayuni – Badle Badle Mere Sarkaar Nazar Aate Hai | शकील बदायूँनी – बदले बदले मेरे सरकर नज़र आते हैं | Ghazal

Wasim Barelvi – Mohabbat Ke Dino Ki Yahi Kharabi hai | वसीम बरेलवी – मुहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है | Ghazal

Hindi Kala presents Wasim Barelvi - Mohabbat Ke Dino Ki Yahi Kharabi hai | वसीम बरेलवी - मुहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है | Ghazal

Continue Reading Wasim Barelvi – Mohabbat Ke Dino Ki Yahi Kharabi hai | वसीम बरेलवी – मुहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है | Ghazal

Sahir Ludhianvi – Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी – मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Sahir Ludhianvi - Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी - मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Continue Reading Sahir Ludhianvi – Maine Jo Geet Tere Pyaar Ki Khatir Likhe | साहिर लुधियानवी – मैंने जो गीत तेरे प्यार की ख़ातिर लिक्खे | Poetry

Kaifi Azmi – Haath Aakar Laga Gaya Koi | कैफ़ी आज़मी – हाथ आकर लगा गया कोई | Ghazal

हाथ आकर लगा गया, गया कोई ।मेरा छप्पर उठा गया कोई । लग गया इक मशीन में मैं भीशहर में…

Continue Reading Kaifi Azmi – Haath Aakar Laga Gaya Koi | कैफ़ी आज़मी – हाथ आकर लगा गया कोई | Ghazal
Ahmad Faraz – Ranjish Hi Sahi Dil Dukhane Ke Liye Aa | अहमद फ़राज़ – रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ | Ghazal
Ahmad Faraz | अहमद फ़राज़

Ahmad Faraz – Ranjish Hi Sahi Dil Dukhane Ke Liye Aa | अहमद फ़राज़ – रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ | Ghazal

Ahmad Faraz - Ranjish Hi Sahi Dil Dukhane Ke Liye Aa अहमद फ़राज़ - रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ Ghazal lyrics in Hindi and Roman Transcript.

Continue Reading Ahmad Faraz – Ranjish Hi Sahi Dil Dukhane Ke Liye Aa | अहमद फ़राज़ – रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ | Ghazal